become a fan on facebook  follow us on twitter  subscribe for updates  subscribe for updates


इसकी तह में जाएं: ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रोल, डायबीटीज़ को नियंत्रित करना

अपनी ABC जानें: ग्लूकोस, ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित रखना

A1Cरक्तजांच

“ABC” में “A” का अर्थ है A1C रक्तजांच। इस जांच में यह मापा जाता है कि पिछले 2 से 3 माह के दौरान आपका ब्लड ग्लूकोस कितनी अच्छी तरह नियंत्रित किया गया है। आपका जांच परिणाम 7% अथवा इससे कम आना चाहिए।

समय बीतने पर अधिक ब्लड प्रेशर से शरीर के कई अंग क्षतिग्रस्त हो सकते हैं, जिनमें दिल और रक्त की नलिकाएं भी शामिल हैं। उपयुक्त ब्लड ग्लूकोस में निम्नलिखित बातें शामिल हैं:

  • सही वजन
  • स्वस्थ आहार
  • नियमित शारीरिक सक्रियता
  • तनाव नियंत्रण
  • ब्लड ग्लूकोस का कम करने की दवाएं, गोली या इंसुलिन के तौर पर, यदि जरूरी हों

भोजन से पहले और बाद में, सुनिश्चित करें कि आपके ग्लूकोस के स्तर लक्ष्य सीमा के भीतर हों: 


भोजन से पहले 4 से 7 mmol/L
भोजन के 2 घंटे बाद 5 से 10 mmol/L

ब्लड प्रेशर

“ABC”में “A” का अर्थ है ब्लड प्रेशर (रक्तचाप या रक्तदाब)। यह आपकी रक्त नलिकाओं पर आपके रक्त द्वारा डाले जाने वाले प्रेशर या दबाव की माप है। डायबीटीज़ वाले लोगों के लिए इस संबंध में लक्ष्य 130/80mm Hg से कम का होता है।

इस संबंध में ऊपरी संख्या (130) उस समय का दाब है जब आपका दिल सिकुड़ता है और रक्त को बाहर धकेलता है (सिस्टोलिक प्रेशर)। नीचे की संख्या (80) उस समय का दाब है जब दिल धड़कनों के बीच आराम में होता है (डायस्टोलिक प्रेशर)।

ब्लड प्रेशर को सही बनाए रखने में, ब्लड प्रेशर को कम करने वाली दवाएं लेना तथा ऐसी स्वस्थ जीवनशैली आदतें अपनाना शामिल है जो आपके ब्लड ग्लूकोस को नियंत्रित करने में मदद करें।

कोलेस्ट्रोल

“ABC”में “C” का अर्थ है कोलेस्ट्रोल। यह फैट यानी चर्बी या वसा का एक प्रकार है जो हम सबके रक्त और कोशिकाओं में होता है। कोलेस्ट्रोल दो प्रकार के होते हैं:

  • LDL (लो-डेन्सिटी लिपोप्रोटीन) इसे प्रायः “खराब” कोलेस्ट्रोल कहा जाता है। LDL की अधिक मात्रा से दिल की बीमारियों का ख़तरा बढ़ सकता है।
  • HDL(हाई-डेन्सिटी लिपोप्रोटीन) इसे प्रायः “अच्छा” कोलेस्ट्रोल कहा जाता है। HDL की अधिक मात्रा से दिल की बीमारियों का ख़तरा कम हो सकता है।

आपकी हेल्थकेयर टीम आपके कोलेस्ट्रोल के स्तरों पर नज़र रखेगी। आपका लक्ष्य अपने कोलेस्ट्रोल
(खराब) के स्तर को 2.0 mmol/L अथवा इससे कम पर रखना है।

आपके कोलेस्ट्रोल को कम करने के लिए स्वस्थ जीवनशैली वाले चुनाव करना शामिल है। ऐसा आहार लेना बहुत सहायक होगा जिसमें:

  • सैचुरेटेड फैट और ट्रांस फैट कम हों
  • कोलेस्ट्रोल की मात्रा कम हो
  • फाइबर या रेशे की मात्रा अधिक हो