become a fan on facebook  follow us on twitter  subscribe for updates  subscribe for updates


मूल बातें: स्वस्थ खानपान, डायबीटीज़़ रोकथाम और नियंत्रण के बारे में उपयोगी सलाह

शब्दावली



अघुलनशील फ़ाइबर
एक स्पंज की तरह काम करता है। जब भोजन आंतों से होकर गुजरता है तो यह पानी को सोखता है जिससे मल को बाहर निकलने में मदद मिलती है और कब्ज से छुटकारा मिलता है। गेहूं के छिलके और चोकरयुक्त अनाजों में बहुत सारा अघुलनशील फ़ाइबर होता है और यही बात बहुत सारी सब्जियों और फलों के छिलकों पर भी लागू होती है। बीज भी अघुलनशील फ़ाइबर के बहुत अच्छे स्रोत हैं। किसी खाद्य पदार्थ को मिल में पीसकर, छिलका उतारकर, उबालकर अथवा निचोड़ कर जितना अधिक संसाधित किया जाता है, उसमें उतनी ही कम मात्रा में फ़ाइबर होता है। अघुलनशील फ़ाइबर प्राप्त करने के लिए, अधिक मात्रा में बिना संसाधित किए हुए खाद्य पदार्थ खाएं।

इंसुलिन
इंसुलिन एक हार्मोन है जिसे रक्त में ग्लूकोस की मात्रा को नियंत्रित करने के लिए अग्न्याशय (पैंक्रीअस) द्वारा बनाया जाता है। जिन लोगों को डायबीटीज़ होती है, उनमें अग्न्याशय पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बनाता अथवा जितना इंसुलिन वह बनाता है उसका उपयोग शरीर सही तरीके से नहीं कर पाता। परिणामस्वरूप, रक्तप्रवाह में ग्लूकोस जमा हो जाता है।

कार्बोहाइड्रेट
कार्बोहाइड्रेट उन तीन मुख्य पोषक तत्वों में से एक है जो भोजन में पाए जाते हैं। स्टार्चों, फ़लों, दूध के उत्पादों और कुछ सब्जियों में कार्बोहाइड्रेट होते हैं। आपके शरीर को ऊर्जा के लिए कार्बोहाइड्रेट की आवश्यकता होती है। आपका शरीर इन्हें चीनी या शुगर में बदल देता है जिसे ग्लूकोस कहते हैं।

कोलेस्ट्रोल
कोलेस्ट्रोल एक पदार्थ है जो आपके रक्त और कोशिकाओं में प्राकृतिक रूप से मौजूद रहता है। कोलेस्ट्रोल के दो मुख्य प्रकार हैं जो LDL और HDL हैं।

LDL(लो-डेन्सिटी लिपोप्रोटीनद्) को प्रायः “खराब” कोलेस्ट्रोल कहा जाता है क्योंकि LDL की अधिक मात्रा से दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है।

HDL (हाई-डेन्सिटी लिपोप्रोटीन) को प्रायः “अच्छा” कोलेस्ट्रोल कहा जाता है क्योंकि HDL की अधिक मात्रा से दिल की बीमारियों का खतरा कम हो सकता है।

ग्लूकोस
ग्लूकोस से मिलकर कार्बोहाइड्रेट बनते हैं और कार्बोहाइड्रेट भोजन में पाए जाने वाले तीन मुख्य पोषक तत्वों में से एक है। पाचन के द्वारा, कार्बोहाइड्रेट वाले भोजन तोड़कर ग्लूकोस में बदल दिए जाते हैं। शरीर की कोशिकाओं द्वारा ऊर्जा के जिन रूपों का उपयोग किया जाता है उनमें से ग्लूकोस मुख्य है।

पाचन ग्रन्थि या पैंक्रीअस या अग्न्याशय
पाचन ग्रन्थि या पैंक्रीअस या अग्न्याशय पाचन तंत्र का एक अंग है। यह भोजन के विघटन के लिए एनज़ाइम बनाती है। यह इंसुलिन को भी बनाती है। इंसुलिन, यानी वह हार्मोन जो रक्त में ग्लूकोस की मात्रा को नियंत्रित करता है। जिन लोगों को डायबीटीज़ होती है, उनमें पाचन ग्रन्थि या तो कोई इंसुलिन नहीं बनाती या फिर बनाए गए इंसुलिन का प्रभावी उपयोग नहीं कर पाता।